ये हैं जीवन के सफलता का मूल मंत्र 

बिना संघर्ष मंजिल नहीं मिलती, 

बिना भटके मंजिल नहीं मिलता, 

बिना कठिन परिश्रम के लक्ष्य हासिल नहीं होता हैं।

अपने लक्ष्य तक  पहुंचने के लिए सतत मेहनत करते रहना अति आवश्यक हैं। 

इस जीवन में उसी को सफलता प्राप्त होती हैं जो अपने लक्ष्य के प्रति सचेत होता हैं।

सतत कार्यरत होकर परिश्रम करता हैं।

अतः जीवन के सफलता के मूल मंत्र परिश्रम, उत्साह, दृढ़ विश्वास हैं।

ये प्रवचन आचार्य पवन शर्मा ने माता वैष्णव देवी धाम में कहे। 

आलस क्यों आता हैं और इसे दूर कैसे करे |