XPoSat Mission 

XPoSat का मतलब है एक्स रे पोलारिमीटर सैटेलाइट। यह देश का पहला समर्पित पोलारिमेट्री मिशन है।  

XPoSat मिशन मुश्किल परिस्थित में भी चमकीले खगोलीय एक्सरे स्रोतों के विभिन्न आयामों का अध्ययन करेगा। 

आपको बता दें कि इसके लिए पृथ्वी के निचली कक्षा में स्पेस क्राफ्ट भेजा जाएगा। 

इस स्पेस क्राफ्ट में दो वैज्ञानिक अध्ययन उपकरण यानी कि पेलोड POLIX और XSPECT लगे होंगे। 

XPoSat का मतलब है एक्स रे पोलारिमीटर सैटेलाइट। यह देश का पहला समर्पित पोलारिमेट्री मिशन है। 

XPoSat मिशन मुश्किल परिस्थित में भी चमकीले खगोलीय एक्सरे स्रोतों के विभिन्न आयामों का अध्ययन करेगा।  

आपको बता दें कि इसके लिए पृथ्वी के निचली कक्षा में स्पेस क्राफ्ट भेजा जाएगा। इस स्पेस क्राफ्ट में दो वैज्ञानिक अध्ययन उपकरण यानी कि पेलोड POLIX और XSPECT लगे होंगे। 

XPoSat को कब लॉन्च किया जाएगा? 

सूत्रों के मुताबिक XPoSat को 25 दिसंबर 2023 को लॉन्च किया जा सकता है।  

हालांकि, भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो की तरफ से इसकी लॉन्चिंग को लेकर अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई।  

लेकिन, बताया गया है कि इसरो का यह मिशन लॉन्च होने के लिए बिलकुल तैयार है।  

इस मिशन के बारे में और अधिक जानने के लिए नीचे दिए गए लिंक को ऊपर की तरफ स्वाइप करे ।