सन्यासी बनकर की UPSC की तैयारी, 30वीं रैंक प्राप्त कर बनी IAS

यह बात सबको पता हैं कि UPSC परीक्षा को क्रैक करना कोई आसान बात नहीं होता हैं।

इस परीक्षा को क्रैक करके के लिए उमीदवारों को प्रतिदिन 6 से 10 घंटे के बीच पढ़ाई करनी पड़ती हैं।

यही कारण हैं कि यह भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक हैं। 

आज हम एक ऐसे आईएएस ऑफिसर के बारे में जानने वाले हैं जिन्होंने एक सन्यासी की तरह जीवन जी कर UPSC परीक्षा पास की।

हम बात कर रहे हैं राजस्थान के बीकानेर में जन्मी आईएएस परी बिश्नोई की। 

उनकी माँ सुशीला विश्नोई वर्तमान में JRP में एक पुलिस अधिकारी के रूप में तैनात हैं।

उनके पिता का नाम मनीराम बिश्नोई हैं जो कि पेशे से एक वकील हैं।

वही परी बिश्नोई के दादा गोपीराम बिश्नोई गावं के चार बार सरपंच रह चुके हैं। 

परी बिश्नोई कि माँ सुसीला बिश्नोई एक इंटरव्यू में कही थी कि

 " मेरी बेटी ने सोशल मीडिया अकाउंट यूज़ करना छोड़ दिया था और परीक्षा के तैयारी के दौरान मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करती थी।" 

उनके अनुसार परी बिश्नोई UPSC परीक्षा के तैयारी के दौरान एक साधु और सन्यासी की तरह जीवन व्यतीत की। 

पढ़े देश की सबसे खूबसूरत आईएएस सोनल गोयल की सम्पूर्ण जीवनी।