नौकरी के साथ-साथ की UPSC तैयारी,16वीं रैंक प्राप्त करके बनी IAS

आज हम जानने वाले हैं बिहार की रहने वाली आईएएस अंशु प्रिय के बारे में। 

जिन्होंने मेडिकल छोड़कर सिविल सेवा चुना और अपने कड़ी मेहनत से आईएएस बन गई। 

आपको बता दे कि अंशु के पिता का नाम शैलेन्द्र कुमार हैं।

जो गर्ल्स मिडिल स्कूल में प्रिंसिपल के रूप में कार्यरत हैं। 

अंशु ने अपनी शुरूआती पढ़ाई मुंगेर के नेट्रोडेम अकेडमी से पूरी की।

अंशु ,आगे की पढ़ाई दरभंगा के उच्च माध्यमिक विद्यालय से पूरी की।

इसके बाद मेडिकल प्रवेश परीक्षा के तैयारी के लिए कोटा चली गई। फिर उन्होंने एम्स पटना में MBBS में एडमिशन लिया।

अंशु लगातार दो बार प्रिलिम्स में ही फेल हो गई।

 लगातार 2 बार प्रिलिम्स में फेल होने के अंशु को इतना तो समझ में आ गया था कि इस परीक्षा के इकोसिस्टम को समझे बिना पास नहीं किया जा सकता। 

इसीलिए ओ इस परीक्षा के इकोसिस्टम को समझने के दिल्ली चली गई। 

इस दौरान अंशु अलग - अलग नौकरियों में काम करते हुए UPSC परीक्षा की तैयारी की। 

 फिर उन्होंने अपने रणनीति के अनुसार तीसरे प्रयास के लिए नौकरी छोड़ दी। 

और सिर्फ अपने परीक्षा पर ध्यान केंद्रित किया एवं इस बार वे सफल हो गई।

16वीं रैंक प्राप्त करके टॉप की और आईएएस अफसर बन गई। बिहार की अंशु प्रिय को राजस्थान कैडर मिला। 

महरीन की हनीमून वाला फोटो इंटरनेट पर मचा रही धमाल।