यूपीएससी के लिए छोड़ दी अमेरिकन कंपनी की नौकरी।

आज की सफ़लता की कहानी हैं आईएएस ऑफिसर विनायक महामुनी की जिसने कई बार फेल होने के बाद भी हर नहीं मानी।

बहुत सारे छात्र हर साल यूपीएससी का परीक्षा देते हैं और आईएएस, आईपीएस बनने का सपना देखते हैं । लेकिन इनमें से कुछ ही लोग सफल हो पाते हैं ।

महाराष्ट्र कैडर के आईएएस अधिकारी विनायक महामुनी यूपीएससी परीक्षा की तैयारी बड़े लगन और मेहनत से की थी। इसके लिए उन्होंने अपनी नौकरी तक छोड़ दी।

कई बार असफल होने के बाद भी अपने लक्ष्य से तनिक भी पीछे नहीं और डटे रहे हैं।

विनायक महामुनी अमेरिकन मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी (IBM) में नौकरी करते थे।विनायक महाराष्ट्र के लातूर जिले के रहने वाले हैं। 

साल 2012 में डॉ बाबासाहेब अंबेडकर टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी से पेट्रोकेमिकल इंजीनियरिंग में बी.टेक की पढाई पूरी की।

पढ़ाई ख़त्म करने के बाद 3 साल तक अमेरिका में IBM कंपनी में नौकरी की। हालाँकि यूपीएससी के नौकरी छोड़ दी।

अन्य उम्मीदवारों की तरह विनायक महामुनी लगातार 3 बार प्रीलिम्स में ही फेल हो गए। बार - बार फेल होने के कारण विनायक निराश हो गए थे।

लेकिन उनके परिजनों और दोस्तों ने उन्हें फिर से परीक्षा में शामिल होने के लिए मोटीवेट किया।

इस बार यानि चौथे अटेम्प्ट में प्रीलिम्स और मेन्स परीक्षा दोनों को क्लियर कर लिया लेकिन इंटरव्यू में फेल हो 

मगर इस बार विनायक निराश नहीं हुए और फिर से तैयारी में जुट गए। क्योंकि प्रीलिम्स और मेन्स परीक्षा दोनों को क्लियर करने के बाद उनका आत्मविश्वास बढ़ गया था।

आखिरकार पाँचवीं एटेम्पट में 2020 में विनायक महामुनी ने पुरे देश भर में 95वीं रैंक प्राप्त किए। और फिर उनको आईएएस के लिए चुन लिया गया।